डिग्री नहीं नॉलेज मायने रखता है – किरण साहू

1

Raigarh City College – Kiran Sahu

हमारे देश में हर साल लाखों लोग ग्रेजुएट होते हैं, उनके हाथ में डिग्रीयां होती हैं साथ ही आँखों में एक चमक और यह विश्वास कि अब जॉब लगेगी और लाइफ सेट हो जाएगी। लेकिन अभी के समय में डिग्री के दम पर ही जॉब मिलना बहुत मुश्किल हो गया है। पिछले कुछ सालों में हमने यह भी देखा है कि पी.एच.डी. करने वाले कुछ व्यक्ति भी सरकारी चपरासी की नौकरी पाने के लिए आवेदन भरते हैं। उनके पास बड़ी-बड़ी डिग्रीयां तो हैं लेकिन उस डिग्री के मुकाबले उनकी काबिलियत बहुत छोटी पड़ गई।

आज हर स्टूडेंट मेहनत करता है, यह सोचकर कि उसका भविष्य बेहतर बनें लेकिन सही दिशा के अभाव में वही लम्बी दूरी तय नहीं कर पाता और ज़िंदगी के इस संघर्ष में पीसकर रह जाता है। यह समय सिर्फ डिग्री लेकर उसे दीवार पर टांगने का नहीं है, यह समय खुद को बनाने के बारे में है। आपके पास सैकड़ों डिग्रीयां ही क्यों न हो लेकिन आपके अंदर वह स्किल या नॉलेज ही नहीं होगी तो आप अपनी लाइफ में बस गोल-गोल घूमते रह जाएंगे।
इन्हीं कुछ विचारों के साथ किरण साहू ने रायगढ़ सिटी कॉलेज के स्टूडेंट्स को प्रेरित किया। जहाँ बीसीए, पीजीडीसीए, बीबीए, एम कॉम, बी कॉम के तकनीकी क्षेत्र से जुड़े हुए 70 से ज्यादा स्टूडेंट्स मौजूद थे।

रायगढ़ सिटी कॉलेज में स्टूडेंट्स को प्रेरित करने के दौरान कही गई कुछ विशेष बातें

हमारा समाज केंकड़ों की तरह है
जब भी कोई इंसान कुछ करना चाहता है या किसी से कहता है कि वह अपनी लाइफ में कुछ बड़ा करेगा तो कुछ लोग इस प्रवृत्ति के होते ही हैं जो यह कहेंगे ही कि “ज़िंदगी में सफल होना आसान नहीं और तुम कुछ नहीं कर सकते” शायद हमारा देश आज इसलिए ही आगे नहीं बढ़ पा रहा क्योंकि हम किसी के काम की सराहना करने की बजाय, प्रोत्साहन देने की बजाय, उसकी टांग खींचने में लगे रहते हैं। जिसे कुछ करना होता है वो ये नहीं देखता कि कौन क्या कह रहा है, वो कर जाता है और दूसरों के लिए मिशाल बन जाता है।

पढ़-लिखकर जॉब की मेंटालिटी कब तक
हम आसपास बचपन से देखते आ रहे हैं, पढो-लिखो और एक अच्छी नौकरी करो। जब आप नौकरी करते हैं तो आप खुद के लिए ही सोचते हैं लेकिन जब आप अपने दिमाग को खोलते हैं और कुछ ऐसा क्रियेट करते हैं जिससे आप दूसरों को जॉब दे सकें तो आपकी वजह से दूसरों के घर में भी चूल्हा जलता है। ज्यादा से ज्यादा कोशिश करें कि इस देश को आगे बढ़ाने में आप किस तरह से अपना योगदान दे सकते हैं।

सर्च इंजन पर करियर के सबसे ज्यादा मौके
जब से इन्टरनेट सस्ता हुआ है और हर व्यक्ति के पास स्मार्टफोन आया है तब से हर व्यक्ति कहीं न कहीं गूगल या उससे सम्बन्धित सर्च इंजन का इस्तेमाल किसी चीज को खोजने के लिए करता ही है। यदि अभी से गूगल पर चीजें कैसे काम करती हैं कोई समझता चला जाए तो आगे चलकर वह इस फील्ड में बहुत तरक्की कर सकता है और आगे बढ़ सकता है।

करीब 45 मिनट के इस डिजिटल कार्यक्रम में सभी स्टूडेंट्स ने बड़े ही ध्यान से बातों को सुना और यह समझने का प्रयास किया कि अभी के समय में चीजें किस तरह से काम करती हैं। इस बीच रायगढ़ सिटी कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. रीता जायसवाल, युगल मिश्रा, अक्षय गुप्ता, सीपी पाण्डेय, अनुभा दुबे, दीप्ति गुप्ता, भावना पाण्डेय, गरिमा पाण्डेय, दिनेश चौबे व नारिमा खातुन उपस्थित थे। सीमा संजय जो किरण साहू के सहयोगी हैं वो भी वहां उपस्थित थीं। साथ ही स्टूडेंट्स में खिरसागर मालाकार, संप्रीती सोनी, कीर्ति बघेल, शारदा सिंह, घनश्याम, कन्हैया, तरुण, देवेन्द्र, दीपा, संजय, अज़हर, नेहा, फरहान, राधिका, अरुण, दामोदर, हिमालय जैसे अनेक होनहार छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

सभी शिक्षक व बच्चों ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम से उनके अन्दर सकारात्मक बदलाव आता है व इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहने चाहिए। साथ ही किरण ने उन्हें kiransahu.com पर आकर रजिस्ट्रेशन की सलाह भी दी जहाँ वे तकनीकी चीजों को उनसे जुड़कर सीख व समझ सकते हैं।

1 COMMENT

  1. bhut hi latest news aap ne bhezi sir

    thank u so much sir ji

    umeed krta hu ki aap es trh hmara shyog krtye rhengye
    very nice sir
    i am understand your think

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here